Good Old Days and Van Heusen’s MY FIT


Some 16 years back, there was a guy named Rahees-ul Uncle. He was our family tailor, who used to visit our house before every big event in family: be it a marriage ceremony, birthdays or regular festivals. Mom used to call him at least 14 days before initiation of any such celebrations so that he can work comfortably. Back then we were not aware of his religious faiths, caste and social stature, he was the man of word for us. He never missed any deadline in getting our new cloths stitched with best fits. He was so perfect that our entire family or I should say our 250 people plus Khaandaan never ever looked for anyone else. I still remember his smiling face and his ways of playing with us while taking measurements for our new outfits. We used to hide the keys of his Hercules cycle to make him stay little more so that we can play more. But as every good thing comes with an end, our relationship with Raheesul uncle and best fitted cloths ended when we left our hometown.

On reaching Kanpur, we tried many good and known tailors of the city but never got the fitting of Raheesul uncle. For the time being, we tried get our cloths stitched at our hometown. But gradually, readymade cloths begin dominating in our wardrobes and we begin loosing the sense of being dressed in best fit cloths. It continues for quite a long time until I didn’t come across an advert of Van Heusen.

Being part of a privileged Indione Group at Indiblogger.in, I came across the promotion campaign of van heusen. Usually, I don’t take part in such wonderful blogging contests due to time constraints and multiple other things but this blogging contest was really cool and interesting. The description made me apply for this contest. Here, I like to thank Diana, who took the pain to wake me up for visiting the show room of Van Heusen to try MY FIT campaign.

On reaching the nearest Van Heusen store, I found it bit difficult to make them understand my purpose of visit as they had no communication over Indiblogger’s campaign with Trend-In. So, I went on asking about MY FIT thing. Here I met with Sachin. While chit-chatting with him, I come to know that many people come with such urgency that they can’t even afford waiting for five to ten days for the delivery of MY FIT outfits. But, I see their expression of interest as micro conversion because such customers usually come back in future. But, the store must introduce the visitors with this thing to make them feel what it can do for them. I believe such introduction goes very essential for tier two cities like Kanpur, where people don’t frequently visit stores like Van Heusen to find their perfectly fitted outfits. So, “little introduction” will help.

If I will talk about my personal experience then Sachin helped me in choosing the best fit for me. It includes valuable suggestions in finalizing the shade for the trouser & shirt from a thick catalogue of color shades (I don’t know what we call to that book which carry color shades). Eventually, I finalized my order in exact 47 minutes. I intentionally put on the time app.

After 9 days, I received the order and tried the MY FIT outfits. It was unexpectedly wonderful because I felt really great while trying those perfectly fitted shirt & trouser. Here I would like to pay sincere thanks to my friend for coming with me to explore a right fit for me.

Tagged , , , ,

Queen – My Journey from Conformist to Nonconformist


queenSometimes, you want to do something crazy that the folks around you find too crazy & stupid to attempt but you still go on attempting such things. Because something inside you propels to attempt at these things no matter you will gain or lose. Here comes the moment of struggle. You decide which comes first: you or the collective opinion of people around you. It’s about my journey from being a conformist to a nonconformist.

It was a fine Thursday evening, when I was about to leave the workplace so that I can come back the next morning. Right then I logged on Bookmyshow.com to check the show timings of an award winning movie Queen’s re-release. It was kind of an old habit to lookout for the opportunities of trying things that others usually ignore and keep looking at such opportunities until they die naturally. So I was just habitually checking if the rerelease has been replaced with a new movie or not. Somewhere deep in my heart I knew that there will not be any show left as the rerelease was not drawing crowd.

In case of such must-watch movies, I used to check their Wikipedia pages to make myself convince that I should and must watch these movies in theater. In order to be surer of the contents, I used to check what the director and actors have told about the flick in their recent interviews. Once I became sure that I must see this movie in theatre, I used to ask folks around me if they would like to watch the film. In most cases, they have said, ‘let’s go some other day, some other movie or just tried to convince me that the movie is not good enough for theater.’ I used to give up on such discussions and manipulate myself by saying that it will be an act of stupidity to watch a film that others have not found good enough to be watched in a theater. So, I used to end up moving on to another film or such crazy thing that my heart tells I must do.

So on this fine Thursday evening, I checked the show timings of Queen only to find out that the last show is going to begin in another thirty minutes in INoX Kanpur. In order to cross check the information, I called up the booking counter and after few minutes of requests of being patient, I was served with the information that the last show is indeed scheduled to begin in thirty minutes. I returned to my desk while fighting a psychological war between a follower of social customs and a lone solider who fights for what he believes in.  It’s a long passage from the balcony to my desk. While crossing this long passage, all I could think of making people agree but they didn’t yield despite kind of pleading to them to go movie with me just because I wanted to do that. Once everyone said no, we won’t. I was going to feel low as I always do and looked up at the poster of the film. I was reading the Wikipedia page for last time before shutting down the system and then I read something really unexplainable in words.

I read, “She goes solo on her honeymoon to Paris when her fiancé breaks the marriage with her.”

I don’t know how and why but this line gave me strength to go and watch the movie alone. I just shut down my PC and reached the minute when the movie was about to start.  Before this, I have met only found two people: Om Dheeraj and Ruhi Sonal, who used to go for movies alone. Right then, I found it quite stupid to go and watch the movie alone. The experience of watching the movie alone was awesome that I will talk about in another post. But with Queen, I turned from a conformist to nonconformist. After finishing the movie, I was like dancing and singing the movie’s songs in a crazy while driving. That moment, I decided to try on another crazy thing of visiting Kasauli alone. That day I learned that it is quite relieving to live in present while doing the things you trust most.

Tagged , , , , , ,

Our Crazy Journey to Dudhwa National Park – Part 2


 

dudhwa national park अगर आप हमारी दुधवा नेशनल पार्क यात्रा के पहले पार्ट को पढ़ चुके हैं तो भाई थेन्क्यू और जो नहीं पढ़़ी तो बधाई हो क्योंकि आपका थोड़ा सा टाइम बच गया है. खैर अब जब आप यहां आ ही गए हैं तो बैठ जाइए हमारी हुंडई एक्स-सेंट आपको दुधवा नेशनल पार्क घुमा कर लाते हैं. अच्छा सुनिए अगर आपको शांत और बिना एडवेंचर की यात्राएं पसंद हैं तो कृपया इस ब्लॉग पोस्ट को कतई ना पढ़़ें क्योंकि आप जो पढ़ने जा रहे हैं उसे पढकर आप हमें क्रेजी और केयरलैस लडकों की संज्ञा दे सकते हैं एंड वी डोंट माइंड देट…बिकॉज दिस इज अ ग्रुप ऑफ रिलेशनशि‍प वॉरियर्स. जो सभी ऑड्स को बर्दाश्त करते हुए भी अपनी नौकरी और रिलेशनशि‍प को बचाने को कोशि‍श करते हैं. ऐेसे में थोड़ा क्रेजी तो बनता है…इस ट्रिप में शामिल हैं…सौरभ – द नीट एक्सपर्ट, सलमान – द पतंगबाज, अरुण – अपना भाई, रवि, अमन – भाइयों का भाई, राहुल भाई – द कर्नल साहिब एंड सम अदर पिपुल…

तो इस तरह हम लोग 25 जनवरी की सुबह 9 बजे हुंडई एक्स-सेंट पर सवार होकर लखनऊ के लिए निकल पड़े थे. अब आप सोच रहे होंगे कि हम लोग तो दुधवा पार्क घूमने जाने वाले थे तो अब ये लखनऊ कहां से आ गया. तो जी बात ये है कि हम लोग निकले तो दुधवा के लिए थे और घड़ी देखकर 74 मिनट में लखनऊ पहुंच भी गए. लेकिन लखनऊ में जो कुछ हुआ वो कतई क्रेजी था क्योंकि हम लोगों ने लखनऊ में हाइवे के किनारे खड़े होकर पूरा का पूरा दिन बिता दिया. दरअसल इवेंट फ्लो के अनुसार इस ट्रिप के लिए ड्रिंक्स वगैरा लखनऊ से खरीदी जानीं थीं और इसके बाद दुधवा में जंगल लोर रिसॉर्ट पहुंचकर ही ड्रिंक्स वगैरा शुरु होनी थीं. लेकिन प्लान के अनुसार कहां कुछ चलने वाला था. जैसे ही बकार्डी की एक पूरी क्रेट गाड़ी में लोड हुई तो हमारी गाड़ि‍यां हाइवे के किनारे पार्क हो गई. एक के बाद ए‍क खाली क्वार्टर बोतलें गाडी़ से बाहर फेंकी जाने लगी. इस ट्रिप की सबसे अच्छी बात यह थी कि ट्रिप पर सौरभ और सलमान नाम के दो बंदे ऐसे थे जो सिर्फ नीट पीते हैं और नीट उन्हें कोई दे नहीं रहा था. ऐसे में गाड़ी में बकार्डी पीकर ढेर हुए शेरों की जान पूरी तरह सुरक्षि‍त थी.

इसके बाद दोपहर के दो-ढाई बजे हमने फिर से गाड़ी शुरु करवाने की कोशि‍श की तो गाड़ी में रखे बल्लों, हॉकियों को डिक्की में से निकाल कर आगे रख लिया गया. यह सब हो ही रहा था कि तभी रवि ने एक छोटा से फल काटने का चाकू निकाल कर दिखाया. यह चाकु देखते ही मैनें संजय दत्त वाली स्टाइल में चाकू घुमाने की कोशि‍श की. लेकिन जैसे ही चाकु घूमा वैसे ही मेरी जैकेट में एक लंबा सा कट हो गया. वो तो अच्छी बात थी कि यह जैकेट टू-इन-वन थी नहीं तो इस ट्रिप में मेरी लग जाने वाली थी. इसके बाद हम हौले-हौले चलते हुए शाम 6 बजे तक लखीमपुर खीरी तक पहुंचे गए. अब दुधवा नेशनल पार्क सिर्फ 80 किलोमीटर दूर था. कि तभी हमारे आगे चल रही कासिम भाई की गाड़ी एक बताशे वाले की दुकान पर रुक गई. अच्छा इस ट्रिप में सिग्नल पर चलने की हो रही थी. अगर दोनों में से एक भी गाड़़ी रुकी है तो दूसरी रुकना जरूरी है. इसके बाद हम 11 लोगों ने बताशे खाना शुरु किए और बताशे वाले के कांच वाले केंटर में बताशे खत्म होने तक खाते रहे. उस दिन हर एक ने कम से कम 30-30 बताशे तो खाए ही होंगे. लेकिन यहां तक तो सब ठीक था क्योंकि बताशे खाने के बाद कासिम भाई की गाड़ी की स्टेयरिंग पर अरुण सवार हो गया और उसने गाड़ी 180 डिग्री पर मोड़ दी और लगा गाड़ी दौड़ाने. यह देखकर हम लोग तो सन्न रह गए क्योंकि हमारी गाड़़ी के शेर पूरी तरह होश में थे. लेकिन कासिम भाई की गाड़ी के शेर तो पहले ही मोजिटो के नशे में ढेर थे तो अरुण को रोकता तो रोकता कौन. इसलिए हमने कासिम भाई की गाड़ी का पीछा करना शुरु कर दिया. जैसे-जैसे गाड़ी आगे बढ़ रही थी हमें लग रहा था कि कहीं अरुण का पीछा करते-करते हम वापस लखनऊ ना पहुंच जाएं. क्योंकि अरुण बताशे खाने के बाद वास्कोडिगामा हो लिया था. तो हम बस फॉलो कर रहे थे. लेकिन कुछ किलोमीटर तक लखनऊ की ओर गाड़ी दौड़़ाने के बाद अरुण ने गाड़ी एक झटके में 90 डिग्री पर मोड़ दी. ऐसा लगा कि हम लोग फास्ट एंड फ्यूरियस देख रहे हैं. हम अब भी पीछा कर रहे थे. गाड़ी के अंदर का माहौल पूरी तरह तनावपूर्ण था.  बता दें कि इस रास्ते पर आकर हमारे गूगल मैप और हाइफाई नेविगेशन एप्स धराशाई हो चुके थे क्योंकि यहां नेटवर्क तो छोड़ो उसका वंश भी नहीं दिखाई पड़ रहा थी. अब हम लोगों को अयोध्या 47 किलोमीटर वाला साइन बोर्ड दिखाई पड़ा तो मैंने सोचा चलो कोई नहीं राम लला के दर्शन कर लिए जाएंगे. पर फिर अरुण ने 90 डिग्री लेफ्ट पर गाड़ी मोड़़ कर नहर के साथ वाले छोटे से कच्चे रास्ते पर गाड़ी उतार दी. इस रास्ते पर गाड़ी उतारते ही अमन की चोक ले गई. बोला कोई तो भइया को रोक लो. एक्स-सेंट में बैठे लोगों ने लगभग चिल्लाते और गरियाते हुए कहा…कोई तो रोको अरुण को. इसके बाद हम लोग किसी तरह हिलते-हिलाते रात के नौ बजे 12 घंटे का सफर तय करके हम दुधवा नेशनल पार्क के सामने बने जंगल लोर पहुंच गए. जहां शुरू हुआ गालियों का वो दौर कि रघु और राजीव भी शर्मिंदा हो जाएं…खैर इस बारे में अगले अंक में…आइएगा, मजा आएगा.

Tagged , , , , ,

सोशल मीडिया के दौर में भारतीय राजनीति


modi-VS-kejriwalसोशल मीडिया की एंट्री के बाद से भारतीय राजनीति एक युद्ध मैदान में परिवर्तित हो गई है, जहां सिर्फ गोलियों, बम और मोर्टार के गिरने की आवाज आती है. इस युद्ध में वजह और ढ़ंग पर सवाल करने वाले को दलाल कहकर चुप करा दिया जाता है और किसी पार्टी विशेष के कंटेंट को नियमित लाइक और शेयर करने वाला बिना परचा भरे उस पार्टी का सदस्य बन जाता है. ऐसे में एक ही घर में चार अलग-अलग नेताओं के फैन हो सकते हैं. पति-पत्नी की पसंद और फेवरेट पॉलिटिशि‍यन में अंतर हो सकता है. लेकिन इस सोशलमीडिया फेवरेटिज्म में राजनैतिक विचारधारा की सहभागिता नहीं है. बल्कि‍ इसके लिए पॉलिटिशि‍यन की रीजनेबल प्रतीत होती बातों और एक खास अंदाज जिम्मेदार होता है जो उसे किसी वर्ग के लोगों का फेवरेट बनाता है और किसी खास वर्ग के लोगों के लिए विरोध का विषय.

अगर बात करें दिल्ली विधानसभा चुनावों की तो सोशल मीडिया पर मोदी वर्सेज केजरीवाल युद्ध में कोई किसी की बात सुनने को तैयार नहीं है. दोनों तरफ से एक दूसरे के ऊपर जोरदार राजनैतिक हमले हो रहे हैं. इस शक्ति प्रदर्शन में नित नए अत्याधुनिक हथि‍यारों के प्रयोग को सोशल मीडिया फैंस ऐसे सांस रोक कर देख रहे हैं जैसे कोई चुनाव प्रचार नहीं चल रहा हो बल्कि‍ गुड वर्सेज इविल के बीच युगांतकारी लड़़ाई चल रही हो.

ऐसे माहौल में सबसे ज्यादा जरूरी बात यह है कि इन पार्टियों के घोषणापत्रों और विजन डॉक्यूमेंटों की कॉपी चैक की जाए. इन डॉक्यूमेंटों में जहां झुग्गी वहीं मकान जैसी योजनाओं के अमलीकरण के संबंध में प्रश्न पूछे जाएं. पूरी दिल्ली को फ्री में पानी देने के तरीके को भी वेबसाइट पर डालने की मांग की जाए. इसके साथ ही सभी पार्टियों के वादों की बारी-बारी से जांच की जाए. यह तय है कि इस कोशि‍श में कभी फेसबुक पर आपको नमो भक्त की संज्ञा दी जाएगी तो कभी आपका कोई दोस्त पूछ लेगा कि भाई कबसे आपटार्ड हो गए. अगर आप पत्रकार हैं तो आपको दलाल की संज्ञा भी दी जा सकती है. लेकिन क्वेशचन करना मत छोड़ि‍ए क्योंकि फोर सी और फाइव डी का तो पता नहीं लेकिन सवाल करने का अधि‍कार लोकतंत्र में अभी तक सुरक्षि‍त है. इसलिए सवाल करते रहि‍ए…

Tagged , , , , , , , , , , , ,

भारत- लाला जी की दुकान से ई-कॉमर्स स्टोर तक का सफर


आज से बहुत साल पहले दिल्ली में एक किराने की दुकान हुआ करती थी जिसमें एक लालाजी अपने मुनीम के साथ बैठा करते थे. कई बार लालाजी विदेशयात्राओं पर जाते तो लालाजी का मुनीम पूरी जिम्मेदारी से सुबह तड़के सात बजे दुकान खोल देता और शाम में लालटेन जलने तक ग्रा‍हकों को सामान बेचता रहता. इस दौर में बिजली सहज उपलब्ध नहीं होती थी. इसलिए अंधेरा बढ़़ने पर दुकान बढ़़ानी पड़ती थी. यह दुकान कहने को तो एक किराने की दुकान भर थी लेकिन आम इंसानी जरूरत की हर चीज यहां उपलब्ध होती थी. मसलन अगर आपको पेरासिटामोल से लेकर चाय-चीनी और स्कूली किताबों से लेकर लेबोरेटरी का सामान भी चाहिए तो आपको यह सब लालाजी की दुकान पर आसानी से मिल जाते थे. इसलिए अमीर और गरीब जाति के बंधन से मुक्त होकर इस दुकान पर अपनी हैसियत के हिसाब से सामान खरीद सकते थे. इन दिनों में मंदिरों में तो प्रवेश जाति के आधार पर मिलता था लेकिन लालाजी के काउंटर पर सब बराबर थे. सभी को लाइन लगाकर खड़ा होना पड़ता था. लेकिन जैसे हर चीज के अच्छे और बुरे पहलू होते हैं. लालाजी की दुकान के भी ऐसे कुछ पहलू थे जिनसे इस आदर्श की कलई खुलती दिखाई पड़ती थी.

 

लालाजी की इस दुकान के सबसे बुरे पहलुओं में लालाजी सबसे खास पहलु थे क्योंकि उन्हें अपनी सम्पन्नता भी इसी दुकान से बढ़़ानी थी. लालाजी की उम्र भी साठ बरस की हो चली थी और उन्हें दाएं कान से कम सुनाई पड़ता था. अब इस बूढ़े बुजुर्ग की उम्र ही इतनी थी कि लोगों को ना चाहते हुए भी लालाजी के ना सुनाई देने की बात पर यकीन करना पड़ता था. आम इंसानी सलीका तो यही कहता है कि अगर कोई बूढ़ा बुजुर्ग आपसे कहे कि उसे यह समस्या है तो आप उस पर विश्वास करते हैं जब तक कि आप उस मर्ज की ठीक प्रकार से जांच करने में सक्षम ना हों. इसलिए लोग उनके आंशि‍क बहरेपन को किसी तरह से बर्दाश्त कर रहे थे. लेकिन लालाजी के बहरेपन के साथ एक समस्या यह थी कि यह अपने मतलब की तो सारी बातें सुन लेते थे लेकिन ग्राहक के मतलब की बात सुनाई नहीं देती थी. मसलन अगर कोई ग्राहक कहे कि लालाजी चीनी पचास ग्राम कम तुली है तो लालाजी को सुनाई नहीं देता था वहीं अगर कोई कहे कि लालाजी आपने तो ज्यादा पैसे दे दिए तो वे यह बात वे फट से सुन लेते थे. अब ऐसी कंडीशन में उच्च मध्यवर्ग के ग्राहकों को तो एक किलो में पचास ग्राम चीनी कम तुलने से कोई फर्क नहीं पड़ता था और वे लालाजी को उनके बहरेपन के साथ छोड़कर आगे बढ़ लेते थे. लेकिन जब बारी आती आर्थि‍क रूप से पिछड़े तबकों की तो लालाजी की दुकान पर बवाल खड़ा हो जाता. ऐसे ग्राहक पचास ग्राम चीनी के लिए घंटों तक लालाजी के बहरों कानों में अपनी बात डालने के लिए चिल्लाते रहते. इसके बाद लालाजी का मुनीम उन्हें डांटकर भगा देता था. लेकिन मुनीम इसके पीछे की सच्चाई जानता था.

 

लालाजी का मुनीम एक ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ पेशेवर मुनीम था जिसके अनुसार ग्राहकों के साथ छल करके लालाजी अपनी दुकान में ही छोत लगा रहे थे. इसलिए वह लालाजी को जब तब समझाने की कोशि‍श करता कि ग्राहकों के साथ छल करके उनका भरोसा दुकान पर से उठ सकता है. मुनीम के कई बार कहने पर लालाजी के दिमाग में यह बात घर कर गई कि यह शारीरिक बहरापन ज्यादा दिनों तक काम नहीं देने वाला इसलिए छल का दूसरा रास्ता खोजना पड़ेगा. इसलिए लालाजी अपनी दुकान मुनीम के हवाले सौंपकर विदेश यात्रा पर निकल पड़े ताकि देखा जा सके कि विदेशों में किराने की दुकानें कैसे चलाई जा रही हैं. लालाजी ने अपनी लंबी यात्रा के दौरान विदेशों में कई तरह के आधुनिक तरीके देखे जिनसे ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता था और ग्राहक को भी छलने की जरूरत नहीं थी. अपनी बहुदेशीय यात्रा के दौरान लालाजी अमेरिका भी पहुंचे जहां उन्होंने ई-कामर्स नामक अत्याधुनिक विधा के बारे में सुना. लालाजी को जैसे ही पता चला कि इस विधा में तो कस्टमरों से बात किए बिना ही प्रॉडक्ट सेल किया जा सकता है और पैसे की हाय-हाय झिक-झिक नहीं. इसके साथ ही ग्राहकों को वेबकूफ भी बनाया जा सकता है लेकिन जुगाड़ से. इसके बाद लालाजी ने दिल्ली की फ्लाइट पकड़ी और मुनीम को मिलने का संदेशा दे भेजा.

 

लालाजी की घरवापसी का संदेश सुनकर मुनीम दौड़ता-हांफता उनके घर पहुंचा तो देखा लालाजी बड़े मजे से जलेबि‍यां खा रहे थे और बगल में दही का कटोरा भी रखा था. लालाजी को मजे से जलेबियां खाते देख मुनीम ने मन ही मन सोचा कि हो ना हो लालाजी ने घर लौटकर खाता-बही नहीं देखी है क्योंकि अगर देखी होती तो जरूर मुझे खरीखोटी सुना रहे होते. क्योंकि मुनीम ने लालाजी की गैरमौजुदगी में दुकान पूरी ईमानदारी से चलाई थी इसलिए खाताबही में अंतर आना तो स्वाभाविक ही था. मुनीम यह सब सोच ही रहा था कि तभी लालाजी ने मुनीम को देखकर कहा, ‘आओ, मुनीम जी, जलेबियां खाओ.’ लालाजी के मुंह से इतनी मीठी बातें सुनकर तो मुनीम के होश ही उड़ गए. तभी लालाजी ने ऐलानी अंदाज में कहा मुनीम तुम कहते थे ना कि ग्राहकों के साथ छल करके कभी दुकान की तरक्की नहीं हो सकती. इसलिए हमने तय कर लिया है कि अब अपने सामान को ऑनलाइन बेचेंगे. मुनीम ने सर खुजाते हुए कहा, ‘ऑनलाइन, हैं लालाजी, यह क्या होता है.’ लालाजी ने मुनीम की अज्ञानता पर लगभग हंसते हुए कहा कि मुनीम जी फुटकर विक्रय की इस विधा में ग्रा‍हकों के पास कभी भी, कहीं भी और कितना भी खरीदने की आजादी होती है. जैसे अगर किसी को तीन किलो चीनी खरीदनी हो तो वो उसे बस अपने घर या ऑफिस में रखे कंप्यूटर से हमारी ऑनलाइन साइट पर ऑर्डर करना होगा. फिर हम ग्राहक के घर पर तीन किलो चीनी डिलीवर करा देंगे और इसमें किसी प्रकार का छल या धोखा नहीं होगा.

 

यह सब सुनकर मुनीम की आंखों में आंसू आ गए और उसने लालाजी के पैर पकड़ लिए और पूछा कि आखि‍र कब से शुरू करना है अपना ई-कॉमर्स स्टोर. यह सुनकर लालाजी बोले कि पहले तुम जाओ अमेरिका, कनाडा, आयरलैंड, जर्मनी और आस्ट्रेलिया के ई-कॉमर्स स्टोर्स में लिखी नियम और शर्तों को स्टडी करके आओ और देखो कि इन स्टोर्स के टर्म्स एंड कंडीशंस में कौन-कौन सी अच्छी बातें हैं जो हम अपने स्टोर में डाल सकते हैं. इसके कुछ दिनों बाद लालाजी की दुकान ई-कॉमर्स स्टोर में तब्दील हो गई और लोग अब धड़ाधड़ शॉपिंग करने लगे. कभी-कभार कुछ ग्राहकों को उनको डिलीवर हुए समान से असंतुष्टी होती तो लालाजी मुनीम को समझा लेते कि अब बताईए अपन ने तो पहले ही साफ-साफ लि‍ख रखा है कि ना समझ में आए तो ना लें और टर्म्स एंड कंडीशन पढ़ लें. अब ये ग्रा‍हक निरे मूरख हैं तो इसके लिए हम कहां से जिम्मेदार हैं. इसके बाद मुनीम के पास कोई प्रश्न ही नहीं बचता और वह असंतुष्ट ग्राहकों को यही ईमेल ठोक देता कि जी आपकी गलती थी. इसके बाद लालाजी ने हर पांच सालों में एक मेगासेल और कई प्रकार की मंथली और वार्षि‍क सेलें रखने का ऐलान कर दिया. इन सेलों से पहले लालाजी की कंपनी टीवी से लेकर, रेडियो तक हर जगह प्रचार करवाती कि पांच साल में सबसे सस्ता सामान, अब नहीं खरीदा तो कभी नहीं खरीद पाओगे. ऐसे विज्ञापन और हॉर्डिंग देखकर लोग इच्छा ना होते हुए भी कुछ ना कुछ तो खरीद ही लेते थे. अब कुछ लोगों को उनके मनमाफिक चीज मिलती तो कुछ लोगों को मोबाइल के डिब्बों में साबुन की टिकिया मिलती. इसके बाद असंतुष्ट लोग सिर्फ ईमेल के सहारे अपना रोना रोते रह गए और ईकॉमर्स स्टोर की मेगासेलों और टर्म्स एंड कंडीशंस में उलझ कर रह गए.

ऐसे ही कुछ लोग आज भी झुग्गी बस्त‍ियों में रह रहे हैं और फ्री बिजली और पानी देने एवं झोपड़ी की जगह मकान देने वाली मेगा सेलों की टर्म्स एंड कंडीशन पढ़े बिना बाय नाओ बटन पर क्लिक कर रहे हैं.

Tagged , , , , , , ,

दुधवा नेशनल पार्क की यात्रा जिसमें हम खो गए


DUDHWAवो गुरुवार का दिन था जब सुबह-सुबह संडे गार्जियन में छपे एक एंटरव्यू को पढते-पढ़़ते सोचा कि चलो ना कहीं घूम कर आया जाया। संडे गार्जियन की टीम ने एक एडवेंचर लवर और सोलो बाइक राइडर का इंटरव्यू लिया था. यह बंदा अपनी बाइक पर पूरे इंडिया का चक्कर लगा रहा था और साथ ही साथ अपनी इस यात्रा के अनुभवों को अपने ब्लॉग क्लूलैस राइडर पर पब्लिश करता जा रहा था. इस बंदे ने अपनी ट्रिप को रोमेंटिसाइज किए बिना जितनी इमानदारी से अपनी ट्रिप के बारे में बताया तो इंटरव्यू पढ़ते-पढ़़ते ही सोच लिया कि काश मैं भी ऐसी किसी ट्रिप पर जा पाऊं जहां जाने से पहले वहां जाने में कोई मकसद ना छूपा हो. इसके साथ ही सोचा कि अगर अब‍की बार किसी ट्रिप पर गया तो खुद को खोकर पाने की कोशि‍श करूंगा. जैसे किसी अंजान रोड पर चलते जाना और उस रोड पर बने घरों और किनारे बने पार्को की जालियों को पहली बार देखने का अनुभव प्राप्त करना. पिछली बार जब जिमकॉर्बेट पार्क घूमने गया था तो पूरा टाइम फेसबुक के लिए पिक्चर्स खींचने और सेल्फी खींचने में ही चला गया था. नदी के बलुआ पत्थरों पर ठीक से बैठना तो दूर एक बार ढंग से छू भी नहीं पाया था. इसलिए इस बार पहले से ही सोच लिया था कि कुछ भी हो जाए इस ट्रिप पर फेसबुक को हाथ नहीं लगाऊंगा. यह सोचते-सोचते मैने अपने ऑफिस के दोस्तों वाले वॉट्सअप ग्रुप पर अपने ‘काश’ वाले ट्रिप आइडिया को शेयर कर दिया. मैने अंग्रेजी में पूछा ‘हाऊ अबाउट अ बाइक ट्रिप टू समवेअर विफोर राहुल भाई मैरिज, इट विल बी अ वेरी लिबरेटिंग जर्नी’. वहां से राहुल भाई का ही जवाब आया ‘वेरी नाइस, हम कर सकते हैं.’ इस मैसेज को सेंड करते टाइम मैंने सोचा भी नहीं था कि ग्रुप के सभी लोग ऐसी किसी ट्रिप का कितनी बेसब्री से इंतजार कर रहे थे. लेकिन मैसेज में लिबरेटिंग जर्नी वाली बात मैने अपने लिए ही लिखी थी. पिछले कई महीनों से कहीं घूम कर आने के बारे में सोच रहा था जहां मैं मैं ना रहुं और उस जगह का एक हिस्सा हो जाऊं. लेकिन अखबार की नौकरी में छुटि्टयों मांगना जैसे अपराध माना जाता है वो भी तब जब आप डेस्क पर काम कर रहे हों. इसलिए क्लूलैस राइडर जैसी किसी ट्रिप पर जाने की सोच को भी कई महीनों तक सोच के कमरे में ही बंद रहना पड़ता है. लेकिन मुंआ ये गूगल भी बिहेबियर टारगेटेड एडवरटाइजिंग से मेरी कंप्यूटर स्क्रीन पर पिछले कई दिनों से टूरिज्म वेबसाइट्स के एड ऐसे रन कर रहा था जैसे कोई आइसक्रीम वाला किसी ‘बच्चों वाले घर’ के सामने से गुजरते हुए जोर से अपनी घंटी बजाता है जिससे घर के अंदर के बच्चे आइसक्रीम वाले की घंटी की आवाज सुनकर बाहर आ जाएं और उसकी आइसक्रीम खरीद लें. कंप्यूटर स्क्रीन पर बरबस शुरू हो जाने वाले इन विज्ञापनों को देखकर घूमने जाने को आतुर मन ऐसे छटपटाता है जैसे किसी सात साल की बच्ची को कमरे में बंद कर दिया जाए हो और वह दरवाजे की सांस से आईसक्रीम बेचने वाले को निराश आंखों से देख रही हो. इसलिए ऐसेी किसी जगह पर जाने के बारे में सोचना ही काफी लिब्रेटिंग थॉट था.

वॉट्सअप ग्रुप पर ट्रिप के बारे में बोलकर मैं ग्रुप से लगभग गायब हो गया था क्योंकि राहुल भाई और अरुन भाई ने शुरूआती दौर में ही हामी भर दी थी. लेकिन मुझे फिर भी लग रहा था कि हो ना हो यह ट्रिप पॉसिबल नहीं है क्योंकि राहुल भाई की शादी को सिर्फ दस दिन ही बचे थे. ऐसे में उनके लिए ऐसी किसी ट्रिप पर जाना संभव नहीं लग रहा था. लेकिन वॉट्सएप पर ट्रिप के बारे में बातचीत शुरू हो चुकी थी. लेकिन मैंने किसी भी कनर्वेजेशन में पार्टिसिपेट नहीं किया क्योंकि मैं मन बनाकर तोड़ना नहीं चाहता था. इसलिए मैं आखि‍र तक कहता रहा कि मैं नही चल पाऊंगा क्योंकि मुझे एग्जाम देने जाना है, पैसे नहीं है आदि आदि. परंतु जब मैने देखा कि अरुण और राहुल भाई लोग ट्रिप को लेकर सीरियस हैं तो मैने भी हां कह दी. हालांकि मन में डर था कि कहीं यह ट्रिप भी पिछली कई ट्रिप्स की तरह फेसबुक और इंस्टाग्राम की शि‍कार ना हो जाएं. लेकिन मैंने रिस्क लिया और तय किया कि जो भी हो जाए पर इस ट्रिप पर खुद से इस वर्चुअल दुनिया का शि‍कार नहीं बनूंगा. मन ही मन डर तो लग रहा था कि कहीं छुट्टियां खराब ना हो जाएं लेकिन रिस्क लेने का भी अपना मजा होता था. इसलिए पूरे दिल से रिस्क लेने को तैयार को हो गया. फिर वो दिन भी आ गया जब हमें सुबह-सुबह दुधवा नेशनल पार्क के लिए निकलना था. दुधवा जाने के लिए हमने 26 जनवरी की छुट्टियों पर निकलने का प्रोग्राम बनाया था. हमने ट्रिप के लिए बैट बॉल और पतंगबाजी जैसे इंतजाम भी किए थे. इन इंतजामों के साथ हम सब निकल पड़े.

जानना चाहेंगे इस खास ट्रिप पर आगे क्या हुआ तो थोड़ा इंतजार करिए. वैसे बता दुं कि ट्रिप के शुरू होते ही हैंगओवर मूवी टाइप एक किस्सा हुआ था. अब अगले अंक में.

Tagged , , , , , , , , , , ,

Multidimensional Investigation Needed in Sunanda Pushkar Murder Case


On January 17th 2014, Congress leader Shashi Tharur’s wife Sunanda Pushkar found dead in room no. 345 of Hotel ‘The Leela Palace’ in Chankyapuri, New Delhi. In the initial report, the first speculative reason of Pushkar’s death came out was suicide. Close friends of Pushkar immediately tweeted with surprising sentiments like Ohh! Sunanda Killed herself. On contrary to these tweets, Pushkar’s brother reportedly told that he believes that Sunanda can’t harm herself. On the same line, bollywood actress Juhi Chavla tweeted “shocked to hear about Sunanda pushkar … Seems like yesterday She was with us at all kkr matches in kolkatta..cheering and cheerful !!. These contradictory comments play an important role to the murder story, which is still unfolding.

The second speculative reason of Pushkar’s death, pushed forward by the husband of Sunanda Pushkar’s, was her impeding sickness. Shashi Tharur said that his wife was suffering from lupus. Her close friends joined Tharur and said yes she indeed was suffering from lupus. The third speculative reason of Pushkar’s death was drug overdose. In the earlier autopsy report, a psychoactive and sedative drug called Alprazolam was found. Including this, there were multiple bruises and an injection mark was found. However, nothing constituted that the real reason of death was drug overdose. On 20th January 2014, AIIMS’ three member forensic team Chief Doctor Sudhir Gupta labeled Sunanda Pushkar death as ‘sudden unnatural death’. The team asked few days to come back with a definition of sudden natural death.

But after a whole year in its final medical report from Dr. Sudhir Gupta team, the death of the Sunanda Pushkar has been labeled as sudden unnatural death. Although, the final report says that there was some kind of a poison in the body of Sunanda Pushkar. But, this report says that Sunanda was perfectly a healthy individual and was not suffering from lupus or any other diseases. Here, all the stories of illness go wrong. Moreover, the counter tweets from people who met with Pushkar day before her death say that she was a cheerful. So, this report kills all the speculation shared by the close friends and the husband of Sunanda Pushkar.

After all this, the thing that stands apart is the action taken by Delhi Police. A year back, Delhi police didn’t file this case with IPC 302. Now, the case has been filed against an anonymous whereas the medical report by AIIMS still says the same. The big question coming out of this murder mystery is that on what grounds Delhi police is capable of naming the poison responsible for death as polonium 210. Apart from this, there should be a separate investigation on how a leak medical report, prepared by Kerala Institute of Medical Sciences (KIMS) said that Pushkar was suffering from various diseases including heightened photo-sensitivity, arthritis and lupus. This leaked medical reportedly supported the story of Shashi Tharur about Pushkar’s illness. Moreover, the twitter accounts of both Shashi Tharur and Sunanda Pushkar should be duly investigated because in one tweet she herself has accepted that she has been diagnosed with multiple issues. On the other hand, the KIMS has said that she was perfectly fine and was only prescribed simple medication.

This murder mystery is required to be investigated from multiple angles to understand the factors which were used to support the fiction and bury the facts. Such multidimensional investigation will improve the future course of investigations in this changed digitized world.

Tagged , , , , , , , , , ,
Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 1,351 other followers

%d bloggers like this: